0

छत्तीसगढ़ में कांग्रेस की सरकार बरकरार रहने पर गरीबों को 10 लाख रुपये तक का इलाज मुफ्त: राहुल गांधी

Share

कांग्रेस नेता राहुल गांधी ने रविवार को वादा किया कि यदि उनकी पार्टी छत्तीसगढ़ में सत्ता बरकरार रखती है तो राज्य में मौजूदा स्वास्थ्य सहायता योजना के तहत गरीबों को 10 लाख रुपये तक की मुफ्त इलाज की सुविधा मिलेगी।
छत्तीसगढ़ के राजनांदगांव जिला मुख्यालय और कवर्धा (कबीरधाम जिले का मुख्यालय) में चुनावी रैलियों को संबोधित करते हुए गांधी ने यह भी वादा किया कि भूमिहीन कृषि मजदूरों को मौजूदा सात हजार रुपये के स्थान पर प्रतिवर्ष 10 हजार रुपये दिए जाएंगे। गांधी ने कहा कि यदि कांग्रेस केंद्र में सत्ता में आई तो देश में जाति जनगणना करायी जाएगी।
कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी ने यह भी कहा कि यदि उनकी पार्टी केंद्र में सत्ता में आती है तो किसानों को उनकी उपज निर्यात करने में मदद करने के लिए छत्तीसगढ़ में एक अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डा स्थापित किया जाएगा।

चुनिंदा उद्योगपतियों का कथित तौर पर ऋण माफ करने के लिए भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के नेतृत्व वाले केंद्र की आलोचना करते हुए गांधी ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी जितना पैसा अडाणी को देते हैं, उतना ही कांग्रेस पार्टी छत्तीसगढ़ के मजदूरों, किसानों और छोटे व्यापारियों को देगी।
गांधी के संबोधन के बाद मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने सोशल मीडिया मंच एक्स (पूर्व में ट्विटर) पर पोस्ट किया, हमारी गारंटी: डॉ खूबचंद बघेल स्वास्थ्य सहायता योजना के तहत गरीब वर्ग को अब 5 लाख रुपये से बढ़ाकर 10 लाख रुपये तक का मुफ्त इलाज, अन्य लोगों को 50 हजार रुपये से बढ़ाकर अब 5 लाख रुपये तक का मुफ्त इलाज मिलेगा।
गांधी ने कहा कि कांग्रेस सरकार गरीबों, मजदूरों, किसानों, पिछड़े वर्गों, आदिवासियों और दलितों की सरकार है और वह उनके दिलों की आवाज सुनती है।
उन्होंने इस दौरान कृषि मजदूरों को प्रतिवर्ष सात हजार रुपये के बजाय अब 10 हजार रुपये देने का वादा किया।

कांग्रेस नेता गांधी ने कहा, आपको बोलने की जरूरत नहीं है, आपके दिल की जो आवाज होती है, हम वह सुन लेते हैं। आज सुबह किसानों के साथ, मजदूरों के साथ बघेल जी और मैंने थोड़ा काम किया, बातचीत की। किसानों ने हमसे कहा कि कांग्रेस सरकार ने उनके लिए पांच साल में जो किया है, वह किसी भी सरकार ने नहीं किया है।
उन्होंने कहा, कांग्रेस पार्टी का काम करने का तरीका देखिए, किसानों और मजदूरों से बात हुई, मजदूरों ने हमें कहा कि सात हजार रुपये (राजीव गांधी भूमिहीन कृषि मजदूर न्याय योजना में मिलने वाली राशि) कम है। गाड़ी में हमारी बात हुई और फैसला कर लिया कि यह अब 10 हजार रुपये हो जाएगी।
गांधी ने एक बार फिर जाति आधारित जनगणना का पक्ष लिया और कहा, जिस दिन कांग्रेस दिल्ली में सत्ता में आएगी, उसी दिन से जाति आधारित जनगणना पर काम शुरू कर दिया जाएगा।

इसी तरह छत्तीसगढ़ में भी सरकार बनने के बाद पहले दिन से जातीय आधारित जनगणना पर काम शुरू कर दिया जाएगा। कर्नाटक और राजस्थान में इसकी शुरुआत हो चुकी है। हम इसे मध्य प्रदेश में करेंगे (यदि पार्टी भाजपा शासित राज्य में सत्ता में आती है)।
राहुल गांधी ने कहा, मैं आपको भरोसा दिलाना चाहता हूं कि जाति आधारित जनगणना के बाद पिछड़ों का, दलितों का, आदिवासियों का एक नया अध्याय लिखा जाएगा। उनकी प्रगति के लिए, उनके विकास के लिए ऐतिहासिक काम शुरू हो पाएगा।
गांधी ने दावा किया कि कांग्रेस गरीबों, मजदूरों, किसानों, पिछड़े वर्गों, आदिवासियों और दलितों के लिए काम करती है, जबकि भाजपा के नेतृत्व वाली केंद्र सरकार अडाणी जैसे अरबपतियों के लिए काम करती है।
उन्होंने कहा, मोदी जी और भाजपा अस्पतालों, स्कूल, कॉलेज का निजीकरण करते हैं और उन्हें अरबपतियों को सौंप देते हैं।

हमें ऐसा देश नहीं चाहिए (जहां हर चीज का निजीकरण हो)। सरकार का काम गरीबों की रक्षा करना है। स्कूल, कॉलेज, विश्वविद्यालय और अस्पताल चलाना है।
गांधी ने कहा, यदि कांग्रेस राज्य में सत्ता बरकरार रखती है, तो केजी (किंडरगार्डन) से पीजी (पोस्ट-ग्रेजुएशन) तक के छात्रों को सरकारी संस्थानों में मुफ्त शिक्षा प्रदान की जाएगी।
इस वादे की घोषणा गांधी ने शनिवार को राज्य में अपनी जनसभा के दौरान भी की थी। उन्होंने कहा, प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी जितना पैसा अडाणी को देते हैं, उतना ही हम छत्तीसगढ़ के मजदूरों, किसानों और छोटे व्यापारियों को देंगे।
राहुल गांधी ने कहा, अभी दिल्ली (केंद्र) में हमारी सरकार नहीं है इसलिए हम छत्तीसगढ़ में काम करेंगे। आप देखिए यदि हम दिल्ली में निर्वाचित हो गए तो क्या होगा। उन्होंने मजाक बना रखा है। देश किसानों, मजदूरों और छोटे व्यापारियों का है, यह केवल दो-तीन व्यक्ति या अडाणी का नहीं हैं।

उन्होंने कहा, आप मुझसे लिखकर ले लीजिए कि मैं आपको उतना ही पैसा दूंगा जितना वे (भाजपा) उन्हें (उद्योगपतियों) देते हैं।
गांधी ने मुख्यमंत्री बघेल के साथ अपनी चर्चा का जिक्र करते हुए कहा, मैंने बघेल जी से कहा कि बड़ा सोचो। छत्तीसगढ़ को धान का कटोरा कहा जाता है और इसे सब्जियों और अन्य उपज का केंद्र भी बनना चाहिए। मैंने बघेल जी से कहा कि जिस तरह उन्होंने अंग्रेजी माध्यम के स्कूलों का जाल फैलाया है, उसी तरह हर जिले में खाद्य प्रसंस्करण इकाइयों का जाल बिछाएं।
उन्होंने कहा, जैसे ही हमारी पार्टी केंद्र में सत्ता में आएगी, हम दो-तीन अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डे खोलेंगे। तब आपका राज्य न केवल भारत का बल्कि पूरे विश्व का धान का कटोरा होगा। आप अपनी सब्जियां अमेरिका, दुबई और इंग्लैंड तक भेज सकेंगे.. इसलिए मैं आपसे कहता हूं कि आप अंग्रेजी भी सीखें क्योंकि जब आप अमेरिका जाएंगे तो इसकी जरूरत पड़ेगी।

भविष्य में जब आपके बच्चे अपनी कृषि उपज विदेश भेजेंगे, तो अंग्रेजी उनकी मदद करेगी।
गांधी ने भाजपा की आलोचना करते हुए कहा, भाजपा नफरत फैलाती है और एक धर्म को दूसरे धर्म से तथा एक जाति को दूसरी जाति से लड़ाने में लगी रहती है लेकिन कांग्रेस नफरत के बाजार में प्यार की दुकान खोलती है।’’
राजनांदगांव और कवर्धा उन 20 विधानसभा क्षेत्रों में से हैं, जहां पहले चरण में सात नवंबर को मतदान होगा। अन्य 70 सीटों पर दूसरे चरण में 17 नवंबर को मतदान होगा।
कांग्रेस ने अपने मौजूदा विधायक और मंत्री मोहम्मद अकबर को कवर्धा से तथा वरिष्ठ ओबीसी नेता गिरीश देवांगन को राजनांदगांव से मैदान में उतारा है।

डिस्क्लेमर: प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।



#छततसगढ #म #कगरस #क #सरकर #बरकरर #रहन #पर #गरब #क #लख #रपय #तक #क #इलज #मफत #रहल #गध